Header Ads Widget

shayari and quotes by vikas thakur

नकाब


                     मत रखो यहा वफ़ा की उम्मीद किसी से जनाब

क्युकी हर शख्स अपने चहरे पे पहनता है  नकाब

 

Post a Comment

0 Comments